< 21 kapalbhati benefits in Hindi - Healthcare and yoga

Healthcare and yoga

health matters!

21 kapalbhati benefits in Hindi
Read in hindi yoga

21 kapalbhati benefits in Hindi

1.21 kapalbhati benefits in Hindi

कपालभाति के 21 फायदे हिंदी में।

कपालभाति प्रतिदिन करने से निम्नलिखित लाभ प्राप्त होते हैं तो आइए जानते हैं।

  1. कपालभाति प्रतिदिन करने से हमारे शरीर में अतिरिक्त चर्बी कम हो जाती है। मुख्यता पेट की चर्बी।
  2. पेट में जोर पड़ने के कारण हमें कब्ज, गैस, जलन जैसी पेट की बीमारी नहीं होती है।
  3. कपालभाति करने में नाक तथा फेफड़ों का इस्तेमाल होता है। जिस कारण नाक से संबंधित बीमारियां नहीं होती है।
  4. यह प्राणायाम करने से अस्थमा ( दमा) की बीमारी नहीं होती है अगर है तो खत्म हो जाती है।
  5. यह प्राणायाम करने से रात में बहुत अच्छी नींद आती है या अनिद्रा की प्रॉब्लम दूर हो जाती है।
  6. कपालभाति प्राणायाम करने से शरीर में मौजूदा विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं तथा हमारे शरीर को स्वच्छ बनाता है।
  7. कपालभाति करने से आंखों के नीचे काले घेरे ( डार्क सर्कल) मिट जाता है।
  8. यह प्राणायाम करने से दांतों और बालों की समस्या ठीक हो जाती है।
  9. यह प्राणायाम करने से हमारे मेटाबॉलिज में संतुलित रहता है।
  10. यह प्राणायाम करने से हमारी नासिका द्वार शुद्ध होती है।21 kapalbhati benefits in Hindi
  11. कपालभाति करने से हमारा दिमाग स्थिर रहता है।
  12. यह हमारे सोचने समझने तथा हमारी याददाश्त शक्ति को मजबूत करता है।
  13. यह हमारे हृदय को मजबूर करता है।
  14. यह प्राणायाम करने से नाडियां शुद्ध होती है।
  15. यह हमारे पेट की मांसपेशियों को सक्रिय करता है।
  16. यह मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है।
  17. यह हमारे चेहरे पर खुशी तथा चमक बढ़ाता है।
  18. यह प्राणायाम करने से मन शांत रहता है।
  19. यह हमारे वजन को भी कम करती है अगर आप अपने खान-पान पर ध्यान रखें तो।
  20. यह हमारे शरीर को आंतरिक मजबूती प्रदान करता है।
  21. यह हमारे आभामंडल को सकारात्मक ऊर्जा से भर देता है।

यह है कपालभाती से होने वाली 21 लाभ( 21 kapalbhati benefits in Hindi)अब जानेंगे कि कपालभाति क्या है।

2.What is kapalbhati Pranayam (कपालभाति प्राणायाम क्या है)

कपालभाति हठयोग में बताई गई 6 क्रियाओं में से एक है। जिन्हें (षट्कर्म) 6 क्रिया भी बोला जाता है। इन 6क्रियाओं का प्रयोग शरीर को शुद्ध करने में मदद करता है। कपालभाती एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है ललाट प्रकाश  कपाल का मतलब ललाट और भाति का मतलब प्रकाश । कपालभाति का अर्थ ज्ञान भी है। इस प्राणायाम का एक और नाम है कपाल शोधन। यह एक स्वसन योगिक क्रिया है

21 kapalbhati benefits in Hindi

कपालभाति के तीन प्रकार होते हैं

  •  वात क्रम कपालभाति|21 kapalbhati benefits in Hindi
  • व्युत्क्रम कपालभाति|
  • शीत क्रम कपालभाति|

1 वात क्रम कपालभाति – महर्षि घेरण्ड द्वारा बताया गया है कि वात क्रम कपालभाती में एक नाक के छिद्र को बंद करके दूसरे  छिद्र से हवा को लेना है तथा पहले छिद्र से बाहर करना |

2 व्युत्क्रम कपालभाति -इस प्रक्रिया में हमें नाक से पानी खींचना होता है तथा वहीं पानी मुंह से निकालना होता है|

3 शीत क्रम कपालभाति- इस प्रक्रिया में हमें मुंह से पानी पीना है तथा नाक से बाहर निकालना है|

हम लोग कपालभाति के फायदे ,कपालभाति क्या है तथा इनके प्रकार जानिए अब आपके मन में यह प्रश्न उठ रहा होगा कि इसे कैसे करते हैं, तो चलिए जानते हैं कपालभाति कैसे करते हैं|21 kapalbhati benefits in Hindi

details of 

21 kapalbhati benefits in Hindi

provided by 

healthcareandyoga.com

3.कपालभाति कैसे करते हैं| ( how to do kapalbhati)

  1. कपालभाति प्राणायाम सुबह के समय खाली पेट करें|
  2. कपालभाति करने के लिए खुली जगह पर कोई भी योगा मैट या कंबल बिछाकर पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं|
  3. सबसे पहले 10 बार गहरी सांसें लें और धीरे-धीरे छोड़े इससे आप एकाग्र चित्त हो जाएंगे|
  4. अब आप कपालभाति प्राणायाम करने के लिए शुरुआत में सामान्य गति से सांस को अंदर ले और बहुत तेज गति के साथ छोड़े और छोड़ते समय अपने पेट को अंदर करें|
  5. यह प्रक्रिया तेजी से  2 मिनट तक करें अगर आप शुरुआत कर रहे हैं तो|21 kapalbhati benefits in Hindi
  6. जैसे आप यह परिणाम में निपुण हो जाएंगे वैसे आप समय को बढ़ाते जाएंगे|
  7. शुरुआत में आपको थकान हो सकती है पर जब आप इसको 5- 6 दिनों तक लगातार करते रहे तो आगे थकान नहीं होगी|

4.कपालभाति करने में कुछ सावधानियां(precautions of kapalbhati)

अगर आप पहली बार योग कर रहे हैं तो आप कोई योग शिक्षक से सलाह लें|

तनावग्रस्त रहने पर कपालभाति ना करें|

नित्य क्रिया करने के बाद ही कपालभाति प्राणायाम करें|

उच्च रक्तचाप वाले व्यक्ति को सामान्य गति से करना चाहिए|

कमर दर्द है तो कपालभाति प्राणायाम ना करें|

हृदय रोग वाले व्यक्ति को कपालभाति नहीं करनी चाहिए|

गर्मी के दिनों में कपालभाति ज्यादा देर तक ना करें|

21 kapalbhati benefits in Hindi

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *